How to get rid of pimples In Hindi

How to get rid of pimples In Hindi

How to get rid of pimples In Hindi- कील-मुंहासे (Pimples) के लक्षण ,कारन एवंआयुर्वेदिक उपाय– दोस्तों हमें हमारे कही यूजर निचे दिए गए सवाल पूछते है इसलिए आज हम इस आर्टिकल के जरिये इन सब सवालो के जवाब आपको देने वाले है। साथ ही यह आर्टिकल उन लोगो के लिए भी है जो गूगल पे यह सवाल सर्च करते है वह लोग भी यह आर्टिकल जरूर पढ़े

How to get rid of pimples In Hindi
how to remove pimples
how to remove pigmentation from face permanently
pimple marks removal cream
how to remove pimples naturally and permanently in one day
aloe vera for skin whitening
beauty tips in hindi
how to remove black spots on face
clean and clear face wash
home remedies for pimples
how to reduce pimples
best cream for pimples



Pimples कील-मुंहासे के लक्षण और कारन

How to get rid of pimples In Hindi- युवक युवतियों को मुंहासे क्यों निकलते हैं, इस का ठीक-ठीक पता नहीं चला है। फिर भी विद्धान आचार्यों का मत है कि यह प्रायः वसा ग्रन्थियों के विकार तथा प्रणाली विहीन ग्रन्थियों के अनुजलन से. उत्पन्न होता है।
पुरुषों के अन्डकोषों के अन्त:स्राव के विकार,अजीर्ण, रक्त में गर्मी की अधिकता (रक्तदोष) गर्म स्वभाव के खाद्य एवं पेय पदार्थों का अति सेवन, बवासीर का रक्त आने, बन्द हो जाने, अधिक व्यायाम, कार्बोहाइड्रेट एवं वसा पदार्थों का अति सेवन आदि कारणों से ये उत्पन्न हो जाता है। चिकने चर्म वाले मनुष्यों को यह अधिक होता है।
How to get rid of pimples In Hindi
How to get rid of pimples In Hindi
वैसे जवान लड़का-लड़कियों को उनके चेहरों पर यह कील-मुंहासे (Pimples) अक्सर निकल आते हैं जो 25-26 वर्ष की आयु तक स्वयं दूर हो जाते हैं। इनका स्वास्थ्य पर कोई बुरा असर नहीं पडता है, केवल चेहरा भद्दा (बुरा) लगने लगता है।
कील-मुंहासे (Pimples) विशेषतः युवावस्था में उत्पन्न होने वाला शोथयुक्त चर्म रोग है।


नवयुवकों तथा नवयुवतियों के चेहरों पर कीलें सी निकल आती हैं जो कुछ दिनों
के बाद आगे चलकर सख्त हो जाती है। इन कीलों को तोड़ने पर गाढ़ी लेसदार
पीप निकलती है, कीलों का मुँह नुकीला होता है, इनमें दर्द भी होता है, कभी-
कभी पीप निकलने के बाद वहाँ पर व्रण या धब्बे रह जाते हैं।
जिनके फलस्वरूप चेहरा कड़ा तथा कुरूप हो जाता है। यह चेहरे के अतिरिक्त गर्दन एवं छाती पर भी निकल आते है, जिनके पेंदे सख्त लाल होते हैं। पक जाने पर इन सभी में कील तथा थोड़ी सी पीप निकलती है। यह बहुत अधिक दिनों तक चलने वाली बीमारी होती है।

Remove pimples naturally and permanently

remove pimples naturally and permanently- pimples रोग पूर्णतः साध्य है। उचित आहर-विहार तथा चिकित्सा आवश्यक है ताकि मुख-सौन्दर्य जो प्रकृति ने वरदान स्वरूप प्रदान किया है, वह कम न हो
जाये।
कब्ज रहता हो तो मृद विरेचन देकर कब्ज अवश्य दूर करें। हरी साग-
सब्जियाँ उबाल कर खाने से या उनका रसपान करने से यह रोग घट जाता है।
अगर आप पिम्पल्स के लिए असरदार cream खरीदना चाहते हो तो आप amazon से खरीद सकते हो। हमने कुछ खास क्रीम और दवाइया amazon से चुनी है जो आप निचे वाले Buy बटन पे क्लिक करके देख और खरीद सकते हो।

कील-मुंहासे Pimple marks removal Treatment 

  • त्रिफला और मुलहठी मिलाकर 3-4 ग्राम नित्य खाते रहने से कब्ज दूर होने के साथ ही साथ कील (मुंहासे) भी दूर हो जाते हैं।
  • काले चने भुने हुए 6 ग्राम, मुर्दासंग 3 ग्राम, सफेदा काशगरी 3 ग्राम । बकरी के दूध में रात को पीसकर चेहरे पर मलें तथा प्रात:काल गर्म पानी से मुखमन्डल धो डालें, रोग दूर हो जायेगा।
  • काली मिर्ची को पानी में घिसकर मुंहासों पर लगाने से रोग दूर हो जाता है।
  • कैस्टर ऑयल में चने का आटा मिलाकर चेहरे पर मालिश करने से रोग नष्ट हो जाता है।



  • पीली कौड़ियाँ किसी शीशे के बरतन में डालकर इतना नीबू का रस डालें कि उसमें पड़ी कौड़ियाँ भली प्रकार डूब जायें। सात दिनों में यह कौड़ियाँ गल जायेंगी तत्पश्चात इनको पीसकर कपड़े से छानकर रात्रि के समय पीड़ित स्थल (मुख) पर मल दिया करें तथा प्रातः समय धो-पौंछकर साफ कर दिया करें। रोग नष्ट होकर मुख (चेहरा) साफ हो जायेगा। यदि रोग ज्यादा पुराना हो तो इस प्रयोग के साथ सारिवाद्यासव और खदिरारिष्ट का भी प्रयोग करें।
  • सूखे धनिये को पानी में पीसकर लेप करने से तिल एवं मस्सों को आराम आ जाता है।
  • भुनी हुई फिटकड़ी को समभाग काली मिर्च मिलाकर बारीक घोटकर तथा पानी में घोलकर मुहांसों तथा मस्सों पर लगाने से वह मिट जाते है। जहाँ कहीं भी रक्त बहता हो वहाँ यदि इसे लगाया जाये तो रक्तस्राव बन्द हो जाता है।
  • चेहरे की सुन्दरता बढ़ाने हेतु तगर और चिरौंजी पीसकर उसमें मक्खन मिलाकर चेहरे पर उबटन की भाँति प्रयोग में लायें
  • मसूर की दाल को बारीक पीसकर दूध में फेंट लें, तत्पश्चात् मुँह पर लगाकर थोड़ी देर बाद रगड़कर धो-पोंछकर साफ कर लें। मात्र 5-7 दिनों के प्रातः एवं सायं के नित्य प्रयोग से ही मुंहासे सदैव के लिए नष्ट हो जायेगें तथा पुनः निकलेंगे भी नहीं।
  • नर कचूर को पानी में पीसकर प्रयोग करें (लगाने) से रोग नष्ट होगा।
  • जायफल एवं काली मिर्च (दोनों) को दूध में घिसकर मुंहासों पर लगाने से आराम हो जाता है।
  • सरसों तथा सैंधा नमक दोनों को नीबू केसर में घोटकर मुहांसों पर लगाने से रोग नष्ट हो जाता है।
  • सफेद प्याज का अर्क 10 ग्राम, शहद 5 ग्राम, सैंधा नमक 1 ग्राम तीनों को मिलाकर छानकर रखें, मुंहासों पर इसे लगाने से वे मिट जाते हैं तथा इसे यदि नेत्रों (आँखों) में डाला जाये तो नेत्र सम्बन्धी अनेक विकार दूर होकर नेत्रों की सफेदी मिट जाती है तथा पानी बहना बन्द हो जाता है।
  • बादाम की गिरी को बकरी के दूध में घिसकर लगाने से मुंहासों में आराम होता है।
  • यदि गधी का ताजा दूध मुँहासों पर लगाया जाये तो मुँहासे सदा के लिए विदा हो जाते हैं।
  • जिंक आक्साइड (Zink oxide) 20 ग्राम मक्खन में मिलाकर क्रीम की भाँति तैयार करलें। रात्रि में शयन के समय मुख पर इस्तेमाल किया करें।मात्र 8-10 दिनों के इस्तेमाल से आराम मिलेगा।
  • छुहारा की गुठली सिरके में घिसकर मुँहासों पर लगायें तथा एक घन्टे के बाद मुख को साबुन से धो डालें। मात्र 4-6 दिनों के प्रयोग से मुँहासों से निजात मिल जायेगी।
  • अजवायन 30 ग्राम लेकर बारीक पीसकर तथा 25 ग्राम दही में घोटकर सोते समय मुख (चेहरे) पर लगाकर प्रात: काल गर्म पानी से धो डालें।मात्र 8-10 दिनों के प्रयोग से मुहांसों के रोग को नष्ट कर देगा।
  • नीबू का रस, बादाम रोगन तथा ग्लैसरीन (तीनों) को समभाग लेकर भली प्रकार मिलाकर शीशी में सुरक्षित रख लें। इस लोशन के नित्य प्रातःकाल चेहरे पर मलने से मुख मन्डल के कील मुंहासे दूर होकर चेहरा मुलायम एवं खूबसूरत बन जायेगा। पूर्ण आराम न होने तक प्रयोग चालू रखें .

#PimplesCauses #Pimplesaaurvediktreatment #Pimplestreatment #Pimplestreatmenttips #Pimples